ગમતી વ્યક્તિ અને દુઃખ ( Loved one and Hurt)

ગમતી વ્યક્તિથી દુઃખ લાગે ત્યારે આ વાક્ય યાદ રાખવું,

“દુઃખ મહત્વનું હોય તો વ્યક્તિ ભૂલી જવી અને વ્યક્તિ મહત્ત્વની હોય તો દુઃખ ભૂલી જવું”

 

Remember this sentence when you have been hurt from your loved one/favorite people/crush/ best buddy etc..

“If hurt is important then for forget them, or if person is important then forgive them and forget hurtfulness.”

 

Amazing words found in my piece of writing and suddenly i compare it with people like our parents/ best friends/ lovebirds etc…

They have been fighting too much on day by day basis even they have been using such miscellaneous words in argue. But on the next day or day after tomorrow they will eat food together and help each other just because they love them and just wanna be with them. They do not wanna lose them. That’s IT.
BE SOMEBODY, BE LOVED to be with them.

Advertisements

Positivity

When we start crying then our eyes becomes wet, our nose color changed into red and mostly our cheek becomes little big and glowing…

Don’t worry.. “Crying will creates inner positivity and purity in our heart.”
and yeah.. you looks cute enough that you never want to miss to see your face in mirror.

मौसम — mousam (season)

आज मौसम ने लाठी उठाई थी,
दौड़ दौड़ के पगडंडी बनाई थी,
रास्ते का कोई पता नहीं था,
लाठी के डर से वो बनता चला था,
पर जो कुदरत की करामत है,
शायद इसे ही कहते है।

उसी दौड़ के बीच एक ख़ूबसूरत फूल मिला,
खूबसूरती की मिशाल या खूशबू का जुनून।

लाठी का डर था जो , इसे फूल ने मिटाया,
ख़ुशियों की दावत जो इसने खिलाया,

दौड़ तो फिर भी है एक सवाल के साथ
कब तक रहेगा इस फूल का सुहाना साथ।

फिर ये बदलता मौसम आएगा
और नयी छड़ी उठाएगा
क्या होगा कोई चमत्कार कुदरत का,
फिर मिलेगा क्या वो स्वाद खुशियों का,
आज मौसम ने लाठी उठाई थी ।
– विरल

Bandh Aankhen

बंध आँखे…

आँखे बंध करके देख,
अपना आशियाना मिलेगा।

सपने तू बुंदना सीख,
सीखे तो जीना सीख,
जिये तो हँसना सीख,
आज तू उठकर फिर चलकर देख।

दौड़ती हुई ठंडी हवा तू देख,
उसका एहसास दिल के पास रखना तू सीख।

ख़ुशबू बहुत है जान ले ये तू,
उसमे खुद की ख़ुश्बू की आवाज़ तू सुन

आँखे बंध करके तू देख,
अपना एहसास तू लेकर देख,
सपनो की चिल्लाहट सुन,
ख़ुशी का पिंडारा भर के देख

चाहत का मोहताज बन के देख,
सपनों को हक़ीक़त बनाना तू सिख।

गिरे तो सब चिल्लाये, परवाह ना कर उसकी तू

फ़िर तू दौड़, चिल्लाहट को खिलखिलाहट में बदलना सिख
ज़िन्दगी को प्यार करना तू सिख,
मुस्कुराते हुए सपने बुंदना तू सिख

आँखे बंध करके तू देख…

आँखे बंध करके तू देख….

B E H A V I O U R

B E H A V I O U R is Sometimes greater than knowledge, because in Life there are many situations where knowledge fails..but ..
Behaviour can handle E V E R Y T H I N G.”